ईर्ष्या और द्वेष के विचार क्यों आते हैं?

प्रश्नकर्ता: ईर्ष्या और द्वेष के विचार मन में क्यों आते हैं?

आचार्य प्रशांत: क्योंकि ईर्ष्या और द्वेष ही मन है। मन इन्हीं चीज़ों से निर्मित है और इन्हीं चीज़ों को आकृष्ट करता रहता है। मन कोई साफ-सुथरी जगह नहीं है। इन्हीं के साथ तुम पैदा हुए थे। हाँ, बाहर से जब कोई उत्तेजना नहीं मिलती तो ईर्ष्या और द्वेष छुपे पड़े रहते हैं। बारूद भीतर ही भरा होता है, बस बाहर से चिंगारी मिलती है पर दोष चिंगारी का…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org