6 days ago

आचार्य प्रशांत: आपका साथी कैसा है, वो आपको नहीं पता चलेगा जब तक वह आपके साथ है। उसको जानना चाहते हैं तो उस दिन जानिएगा जिस दिन वह आपको छोड़ता है। फिर देखिएगा उसका चेहरा!

जब किसी का आपसे कोई स्वार्थ ना बचे और फिर भी वह आप के प्रति…

--

--

Nov 21

मैं बड़ी लगन से

जतन कर रहा हूँ

खूब छुप-छुप के,

इसीलिए अब

कविता काफी कम लिखता हूँ ।

मैं पैने कर रहा हूँ

चुपके से

अपने हथियार

तुम्हारे ही बीच रह कर

रंग-बिरंगा वेश पहन कर

हूँ तुम में से एक

(अभी)

सतर्क हूँ मैं

खुद को भी नहीं…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

793 Followers

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org