ज़्यादा सोचने की समस्या

“टू मच थिंकिंग” तब होती है, विचार का अतिरेग, वो तब होता है जब आप कर्म का स्थान विचार को दे देते हैं; कर्म का विकल्प बना लेते हैं विचार को। चार कदम चलना है, चल रहे नहीं, डर के मारे या आलस के मारे, या धारणा के मारे, जो भी बात है। तो जो भीतर कमी रह गयी, उसकी क्षति पूर्ती कैसे करते हैं फिर? चलने के बारे में सोच सोच के। करिये ना! सोचिये मत। और जो कर्म में डूबा हुआ है उसको सोचने का अवकाश नहीं मिलेगा। अगर आप जान ही गए हैं, पूर्णतया नहीं, मान लीजिये आंशिक…

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org