हार मंज़ूर है, हौसले का टूटना नहीं

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, जैसा कि आपने बताया कि विचार करो और विरोध करो। जो कुछ भी चेतना के तल पर नीचा है उसका विरोध करो लेकिन विरोध करने पर भी, जैसे सौ बार विरोध करना है तो उसमें जब नब्बे बार हार मिलने लगती है तो फिर इक्यानवे बार कोशिश करने का मन नहीं होता है तो इस स्थिति में क्या करना चाहिए?

आचार्य प्रशांत: नहीं, विरोध करना जीत है! हार कैसे मिल गई?

प्र: जैसे विचार किया कि कोई एक काम है जो नहीं करना है लेकिन फिर भी वो हो जाए।

आचार्य: ये जीत है। हार तब है जब अगली बार विचार नहीं किया। यहाँ हार-जीत की परिभाषा बहुत स्पष्ट होनी चाहिए। हार तब है जब ऐसे हार गए कि अगली बार उस काम को सही ही मान लिया। तुमने विरोध किया न? तुममें जितनी जान है, परिस्थितियों के चलते, अपने अतीत के चलते, तुमने अपनी जो हालत कर ली है उस हालत में तुम्हारी जितनी जान है उतनी जान लगाकर तुम विरोध करो, अगर ईमानदारी से करा है तो। उसके बाद भी हार जाओ तो इसको हार मत मान लेना, ये जीत है।

हार कब है? जब अगली बार विरोध ही न करो। तुम्हारा काम है बार-बार, बार-बार विरोध करते जाना और ये उम्मीद तुम्हारी हार बन जाएगी कि “मैंने पाँच बार विरोध किया लेकिन मैं जीत तो पाती ही नहीं।”

तुम्हें हक़ क्या है आखिरी जीत माँगने का? तुम कौन हो? तुम्हारा काम है एक हार से दूसरी हार तक की यात्रा करना — ये जीत है। हार कब है? जब यात्रा रुक जाए। हार कब है? जब हारना ही छोड़ दो, हार के डर से।

तुम्हारा काम है बार-बार मैदान में उतरना हारने के लिए — ये जीत है। हार कब है? जब मैदान में उतरना ही छोड़ दो। ये बात समझ में नहीं आ रही होगी। समझ में नहीं भी आ रही होगी, तो समझने की कोशिश करती रहो — ये जीत है। हार कब है? जब यहाँ से उठ कर भाग जाओ कि “ये आदमी बेवकूफ है, पता नहीं क्या-क्या बोलता रहता है!” तब हार गई तुम। तुम यहाँ सौ बार बैठो, सौ बार तुम्हें बात समझ में नहीं आ रही, तुम एक-सौ-एकवीं बार फिर बैठने आओ — ये जीत है।

हम तो ऐसे जीतेंगे! कैसे? बार-बार हार के। अब हराकर दिखाओ? तुम जितनी बार हमें हराओगे, उतनी बार जीत हमारी पक्की होती जाएगी। समझ में आ रही है बात?

यहाँ सबसे बड़ा विजेता कौन हुआ फिर? जिसने हारों का कीर्तिमान स्थापित कर दिया। “अब ये हैं सबसे बड़े विजेता!” क्यों? क्योंकि सत्रह-सौ-छियालीस बार हारे हैं लेकिन फिर भी डटे हुए हैं — ये जीत है।

प्र: जो आप स्मृति की बात करते हैं कि याद रखना है। यही बात याद रखना है?

आचार्य: अब पता नहीं क्या याद रखना है, भागना नहीं है। पिटे जाओ! पिटे जाओ! तुम्हें हराने पर उसका अधिकार है पर मैदान…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org