हमारे रिश्तों की वास्तविकता

चले गए सो ना मिले, किसको पूछूँ बात।
मात — पिता सुत बान्धवा, झूठा सब संघात।।
~ संत कबीर

आचार्य प्रशांत: जो कुछ भी जन्म से आया है, जो कुछ भी जीवन में मिला है, वो तो चला ही जाना है। इनके आने और जाने को अगर परख लिया, तब तो सत्य फ़िर भी परिलक्षित हो सकता है, लेकिन ये स्वयं सत्य नहीं बता पाएँगे। जो कुछ भी आया है वो तो ख़ुद द्वैत में है। वो कैसे अद्वैत का पता देगा?

कृष्ण, अर्जुन से कहते हैं, “सत्य एक है। जन्म और मृत्यु के मध्य, समय में, तुम्हें वो व्यक्त लगता है, अन्यथा अव्यक्त है।” बाकी समय अव्यक्त, क्योंकि समय है ही जन्म और मृत्यु के बीच में। अब कोई सत्य को जन्म और मृत्यु के बीच में बाँधने की कोशिश करे, तो उसे क्या मिल जाना है?

“मात — पिता सुत बान्धवा, झूठा सब संघात”

इनमें से कोई नहीं है जो कोशिश करके भी तुम्हारे साथ रह सके। नीयत में इनकी कोई ख़राबी ना हो, तो भी ये साथ नहीं निभा सकते तुम्हारा, और ना तुम इनका। कर सकते हो किसी को वादा कि, “तुम्हारे साथ चलूँगा दस साल तक”? अपना पता है तुम्हें कुछ? ना तुम वादा कर सकते हो, ना किसी के वादे की कोई कीमत है। वास्तव में देखो तो दो दिन का वादा करना भी ख़तरनाक है, क्योंकि तुम्हें अपना दो दिन का भी क्या पता।

ये बातें बहुत ध्यानी मन के लिए हैं, बड़े विचारवान लोगों के लिए हैं। जो आम ज़िंदगी में खपा हुआ हो, उसके लिए वास्तव में इस दोहे के कोई अर्थ है नहीं। ये दोहा तो उसे बस परेशान ही करेगा। कबीर से वो और दूर हो जाएगा ये बात पढ़ कर। वो कहेगा, “ये कोई बात हुई, हमें तो ये जीवन-दृष्टि सुहाती ही नहीं। जो मेरे जीवन में है, कल को वो नहीं रहेगा — ये तो जानी हुई बात है। तो क्या करें, जीना छोड़ दें?”

नहीं, जीना नहीं छोड़ दें। ये देख लें कि हमारा जीना कैसा है। जो भी तुम्हारे जीवन में है, उसके ऊपर हमेशा जाने की तलवार लटक रही है। तुमने कभी देखा है, तुम्हारा कोई स्वजन हो, उसकी पाँच घण्टे भी ख़बर ना मिले, दिल कैसा धक से हो जाता है? देखा है? कभी देखा है कि तुम्हारा बच्चा समय पर लौट कर ना आए, तो तुरंत क्या ख़याल आता है? क्या ये ख़याल आता है कि कहीं पर गया हुआ होगा कोई बड़ा पुरस्कार ग्रहण करने के लिए? क्या ख़याल आता है? हर माँ जानती है, हर बाप जानता है कि जो ख़याल आता है वो यही होता है कि — “मर तो नहीं गया?”

ये ख़याल कहीं से आ गया है? क्या बाहर से आ गया है? ये ख़याल सिर्फ सतह पर आ गया है, भीतर बैठा तो वो पहले से ही है। तुम्हारे रिश्ते की गुणवत्ता भी क्या है? हर समय तो उसके ऊपर मौत का साया है। तुम जिससे भी जुड़े हुए हो, लगातार तुम्हें यही भय है कि वो मर जाएगा। सीधी-सी बात है। कोई…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org