स्मार्ट लड़कियाँ, कूल लड़के, अमीरी, और अंग्रेज़ी

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, हम एक छोटे गाँव से बारहवीं करे। अब दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज में दाखिला पाए। एक साल हो गया है, अच्छा नहीं लग रहा है कुछ। पढ़ाई छूट गया है। यहाँ सुंदर लड़की और अमीर लड़का का ही चलता है। हम सुंदर और अमीर दोनों नहीं हैं। बहुत हीनभावना भर गया है। कॉलेज छोड़ दें?

आचार्य प्रशांत: भाई, थोड़ा समझो कि ये जो हो रहा है ये क्या हो रहा है। भारत इतना मूरख कभी…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org