सुन्दर युवती के प्रति आकर्षण

“या तो पापनाशक जल वाले गंगा तट पर निवास करें
या फ़िर मनोहर हार वाले तरुणी स्त्री के वक्षस्थल पर।”
~(श्रृंगार शतकम्, श्लोक ३०)

आचर्य प्रशांत: कमलेश कह रहे हैं, “तीसवाँ श्लोक बहुत अच्छा है, बता दीजिए।’’

कमलेश! (प्रश्नकर्ता की तरफ देखते हैं)

(सभाजन हँसते हैं)

कह रहे हैं कि, “या तो पापनाशक जल वाले गंगा तट पर निवास करें या फ़िर मनोहर हार वाले तरुणी स्त्री के वक्षस्थल पर।” ये बात उन्हीं दिनों बोली जा सकती है जिन दिनों नशा बहुत हावी हो। जब नशा बहुत हावी हो तो बिलकुल वही बोला जाएगा जो इस श्लोक में भर्तृहरि ने बोला है और मैं कह रहा हूँ कि यही व्यक्तव्य दुनिया के हर कामी आदमी का है। करा क्या है यहाँ पर भर्तृहरि ने देखो कह रहें कि, “या तो गंगा तट पर निवास करो!” यही कहा है न? या तो शुद्ध पापनाशक जल वाले गंगा तट पर निवास करो या मनोहर हार पहने जवान स्त्री के वक्षस्थल पर, सीने पर, स्तनों पर।

ये वो क्या कर रहे हैं देखो! वो दोनों को बराबर ठहरा रहे हैं। वो कह रहे हैं कि शिव से बहती गंगा और किसी जवान स्त्री का यौवन एक ही बात है। कामवासना यही धोख़ा देती है। वो आपको स्तवन से हटाकर स्तन पर ले आ देती है। वो आपको मौन से हटाकर यौन पर ले आ देती है। वो कहती है मौन और यौन अगल-बगल की बातें हैं। जैसे यहाँ पर भर्तृहरि ने कहा है, “या तो ये या फ़िर ये।” जैसे कि दोनों बातें एक बराबर हों। “भैया! या तो आलू दे देना या टिण्डा दे देना”, एक ही तो बात है!

ये क्या आलू-टिण्डे का खेल चला रखा है? तुम गंगा की तुलना किसी स्त्री की जवानी से कर रहे हो? पर यही काम हर कोई कर रहा है। हम सब सोच रहे हैं कि शिवत्व हमें स्तनों और जाँघों में मिल जाएगा, ठीक वही बात जो यहाँ पर भर्तृहरि ने कही है कि गंगा बराबर नंगा। गंगा के पास जाने की क्या ज़रुरत है जब नंगा हो कर के वही सुख मिल सकता है।

नहीं। भर्तृहरि का मान टूटा, मान्यता टूटी, दिल टूटा, राज्य छूटा। इसीलिए छूटा क्योंकि इस प्रकार की मूर्खतापूर्ण बातें करते थे। भर्तृहरि को जो क्लेश झेलने पड़े वो इसीलिए झेलने पड़े क्योंकि उन्होंने ऐसी दुःसाहसी, व्यर्थ, भ्रांतिपूर्ण, वास्तव में पापयुक्त बात कही। उन्होंने राम को काम के बराबर बैठा दिया। नतीजा वही हुआ जो आप देख रहे हो कि ऐसा थपेड़ा पड़ा समय का कि जंगल-जंगल फ़िर भटकते फिरे और भूल नहीं पाए कि कैसी पिटाई हुई थी। इतनी भ्रांतिपूर्ण बात करोगे तो भाई और क्या होगा! बात समझ में आ रही है?

उन्होंने कह दिया तो कह दिया, कमलेश तुम बोल रहे हो, “बड़ा अच्छा लग रहा है”, ये देखो! “श्रृंगार शतकम् श्लोक तीस समझना है, अच्छा है बहुत।” अच्छा नहीं…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org