सीख पाना मुश्किल क्यों?

प्रश्न: मैं आपकी सभी बातें पूर्ण रूप से ग्रहण नहीं कर पाता, मैं क्या करूँ?

आचार्य प्रशांत: तुम फँस इसीलिए जाते हो क्योंकि तुम्हें तकलीफ़ सिर्फ तब होती है जब ऊँचे काम खराब होते हैं, कि ऊँचा काम हो रहा था और मैं किसी निचले केंद्र में ही अटक के रह गया।

नहीं नहीं।

बड़ी-बड़ी बातों में असफल रहो तो छोटी बातों की ओर ध्यान दो। बड़ी बात चल रही है और उसमें तुम शिरकत करने आये और तुमने…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org