सम्यक जीना किसको कहते हैं?

सम्यक जीवन वो जिसमें हानि-लाभ, दोस्त-दुश्मन सब एक बराबर हैं।

महात्मा बुद्ध बोले — मित्र नहीं है मेरा शत्रु कैसे होगा?
मित्रता-शत्रुता दोनों श्रद्धाहीनता की निशानियाँ हैं।
मित्रता-शत्रुता दोनों अप्रेम की निशानियाँ हैं।

जीवन के केंद्र पर जब शांति नहीं होती, सत्य नहीं होता, सफाई नहीं होती
तब उसपर ये दो तरह के विकार होते हैं।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org