संसार की सच्चाई क्या?

भवोऽयं भावनामात्रो न किंचित् परमर्थतः।

नास्त्यभावः स्वभावनां भावाभावविभाविनाम् ॥१८-४॥

~ अष्टावक्र गीता

अर्थ: विश्व तुम्हारी चेतना में उभरा हुआ एक चित्र है। विश्व तुम्हारी चेतना में उठती-गिरती एक तरंग है। जिसने जान लिया कि क्या अस्तित्वमान है, और क्या अस्तित्वहीन है वह जन्म मरण के पार चला जाता है। वह अमर हो जाता है।

आचार्य प्रशान्त: दो बातें कही गई हैं। पहली जो कुछ तुम्हें दिख रहा है वह तुम्हारी चेतना में बनती बिगड़ती आकृति मात्र हैं। और दूसरी बात जिसने समझ लिया कि क्या है जो वास्तव में है और क्या है जो बस प्रतीत होता है, भाषित होता है। वह मृत्यु से छूटकर अमर हो जाता है।

जो कुछ भी तुम्हें दिखाई देता है वह तुम्हीं हो। अपने आपको तन और मन मानते हो न? तो इसलिए जैसा तुम्हारा तन है वैसा ही तुम्हें संसार दिखाई देता है ओर जैसा तुम्हारा मन है वैसा ही तुम संसार में अर्थ भर देते हो।

तन कैसा है तुम्हारा? कहीं छोटा, कहीं बड़ा, कहीं गोल, कहीं सपाट, कहीं छपटा, कहीं तिकोना, कहीं चौकोर, कहीं नुकीला, कहीं दबा, संसार भी तो ऐसा ही दिखाई देता है ना?

संसार तुम्हें मूर्त रूप में पदार्थ रूप में जैसा दिखाई देता है। वो वास्तव में तुम्हारे तन का ही विस्तार हैं। जिस आयाम में तुम अपने तन को देखते हो, उसी आयाम में तुम संसार को देखते हो। और तन का भी एहसास तुम्हें कब होता है, सोते समय होता है क्या? सोए हुए रहते हो शरीर है ऐसा कुछ पता रहता है? तन का भी एहसास तुम्हें जब चैतन्य हो जाते हो तब होता है। जब चेतना की एक विशिष्ट अवस्था होती है तब होता है। अन्यथा तन का कोई ऐहसास होता नहीं है। तो जैसे तन चेतना पर आश्रित हैं, ठीक उसी तरह से संसार भी चेतना पर आश्रित हैं।

तन कहां उठता है? चेतना में उठता है। गहरी नींद में किसके पास तन होता है बताना? गहरी नींद में है कोई जो तनधारी होता हो। गहरी नींद में किसी के पास तन बचता ही नहीं। गौर से देखना जब जागृत होते हो, सुबह जब नींद खुलती है उसके बाद दोनों एक साथ अस्तित्व में आ जाते हैं शरीर भी संसार भी। और ऐसा हो नहीं सकता कि तुम्हें शरीर की चेतना है और संसार की चेतना नहीं है। जब तुम्हें शरीर की चेतना है ठीक तभी तुम्हें संसार की चेतना है और जब तुम्हें संसार की चेतना है तो तुम्हें शरीर की भी चेतना होगी ही होगी। कोई ये नहीं कह सकता कि उसे अभी संसार का अनुभव हो रहा है और शरीर का नहीं। वास्तव में संसार का अगर अनुभव है तो अनुभोक्ता शरीर से जुड़ा हुआ होगा।

चेतना शरीर की नहीं होती, चेतना में शरीर होता है। तुम चैतन्य हो इसलिए तुम्हें शरीर का एहसास हो रहा है। और तुम चैतन्य हो तो तुम्हें सिर्फ कभी…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org