शादी करने से ज़िम्मेदारी नहीं सीख जाओगे

ये भी एक बड़ा भ्रम है कि — जल्दी से शादी कर लो, और शादी करने से दूसरा व्यक्ति ज़िम्मेदार हो जाएगा। भागेगा नहीं, अनुशासन में रहेगा, कर्त्तव्य पूरा करेगा। कुछ नहीं।

तुम कर लो शादी।

जिस व्यक्ति का मन अभी प्रकाशित नहीं हुआ, उससे तुम शादी कर भी लोगे, तो और दुःख झेलोगे।

और जिसका मन प्रकाशित है, उससे शादी चाहे करो, चाहे नहीं करो, वो तुम्हारे प्रति

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org