वो तुम्हें शर्मिंदा करके तुम्हें तोड़ते हैं

प्रश्नकर्ता: नमस्ते आचार्य जी, आपने कहा था स्टील डिटरमिनेशन (दृण निश्चय) के बारे में। मुझे ये जानना था कि इसका स्रोत क्या है? क्योंकि नहीं होता है सब में आप ही ने कहा था। बहुत ही कुछ लोग होते है जिनमें आप देखते होंगे। लेकिन मैं ये नहीं मान सकती अभी कि नहीं हो सकता मेरे में वो स्टील डिटरमिनेशन*। और कभी-कभी दिखता भी है किसी-किसी मामले में लेकिन अधिकतर मामलों में नहीं दिखता उतना दृढ़ निश्चय। उदाहरण के लिए हाल ही में

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org