लाचार नहीं हो तुम, विद्रोह करो!

आपका जन्म किसी एक प्रकार से जीवन बिताने के लिए तो हुआ नहीं है। अनंत संभावनाएँ थीं, और समय तुम्हारे पास बहुत थोड़ा। उन सब अनंत संभावनाओं को तुम जी नहीं सकते। बात ठीक है बिलकुल। लेकिन कम-से-कम उन अनंत संभावनाओं में से किसी एक संभावना से बँधकर तो मत रह जाओ। किसी एक संभावना के गुलाम बन कर तो मत रह जाओ। बीच-बीच में विद्रोह करते रहो ताकि तुम्हें याद रहे कि जीवन कैसा भी बिता सकते हो। चुनाव का हक है। विकल्प मौजूद हैं।

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

GOOD NEW WINNING WEDNESDAY & GUNG HAY FAT CHOY!

The 8 of Pentacles and The High Priestess: Momentum in the Work of your Soul

J12. Distorted Reality

Tetris Wisdom