लड़की या स्त्री होने को अपनी पहचान मत बना लेना

प्रश्नकर्ता: हम जैसे अपने अभिभावकों के लिये एक बोझ की तरह होते हैं। जैसे कि आज मैं यहाँ (शिविर)पर हूँ, तो मेरे घर पर भी बहुत कुछ चल रहा है, कि क्यों मैं चली आयी, तो फिर यह एहसास करवाया जाता है कि तुम्हारी कुछ ज़िम्मेदारियाँ हैं और घर पर भी तुमको समझना चाहिए कि तुम्हारी माँ तुम्हें इन सब के लिये नहीं जाने दे सकती; मेरे पिताजी नहीं हैं, तो तुमको थोड़े कायदे से रहना चाहिए, सम्भलकर रहना चाहिए, क्योंकि समाज ऐसा है और तुम्हें अपनी ज़िम्मेदारियों को देखना चाहिए।

लेकिन मुझे कुछ चीज़े अनावश्यक लगती हैं और मैं नहीं उनके अनुसार चलना चाहती। लेकिन फिर कहीं न कहीं मैं अपराध-भाव से भर जाती हूँ, कि मेरी वजह से परेशान हो रहे सब लोग। तो मैं अगर ये चीज़े न करूँ तो उनकी परेशानियाँ नहीं होगीं, तो इन चीज़ो को लेकर मैं भी परेशान हो जाती हूँ, तो मतलब, कैसे संभालू इस स्थिति को?

और एक सवाल यह है मेरा कि जैसे बहुत ज़्यादा मेरे अन्दर द्वंद चलते रहते हैं, मतलब मानसिक रूप से काफ़ी द्वंद चलते हैं क्योंकि मैं अपने आप को बहुत बंधा हुआ महसूस करती हूँ। मुझे ऐसा लगता है कि मैं जो करना चाहती हूँ, जो ठीक भी मुझे लगता है कि वैसे नहीं ऐसे, इस तरह से करना चाहिए, तो मैं वो नहीं कर पाती हूँ। इसलिए वो करने वाला और जो मैं नहीं कर पाती, उन दोंनों की वज़ह से बहुत ज़्यादा द्वंदों से घिरी रहती हूँ और ऐसा लगता है कि मैं अपनी ज़िदगी जी नहीं पा रही हूँ, कृपया राह दिखायें।

आचार्य प्रशांत: तुम्हारे जो आंतरिक भ्रम हैं और द्वंद हैं, मूलतः यहाँ से निकल रहे हैं कि तुम्हें स्पष्टता नहीं है कि तुम हो कौन। हम जो होते हैं उससे हमारे कर्त्तव्य निर्धारित हो जाते हैं। यही तो तुम्हें नहीं स्पष्ट है न कि क्या करूँ, क्या न करूँ, क्या करना उचित है, क्या करना नहीं उचित है।

प्र: कुछ रुकाव सा लगता है।

आचार्य: रुकाव माने द्वंद। एक तरफ को मन चलता है, जिधर को चलता है उसके विपरीत भी चलता है। द्वंद है भीतर, इसको कहते हैं- किंकर्त्तव्यविमूढ़ता। हम नहीं जान रहे कि हमारे लिए क्या करणीय है, “मेरा कर्त्तव्य क्या है?” मुझे पता ही नहीं चल रहा।

प्र: अगर जान भी रहें हैं कि क्या करना सही है, तो तब भी बहुत हिचक महसूस होती है।

आचार्य: न, जो जान गया कि ठीक क्या है, उसको हिचक महसूस नहीं होती। एक बार स्पष्ट हो जाए कि यही ठीक है, उसके बाद हिचक नहीं हो सकती। हिचक अगर हो रही है तो इसका मतलब है, अभी द्वंद है, अभी अस्पष्टता है। अभी एक नहीं, दो-तीन बातें ठीक लग रहीं हैं और उन दो-तीन बातों में परस्पर विरोध है, तब भीतर हिचक होती है, द्वंद होता है, रुकाव होते हैं।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org