रिश्ते में अगर आज़ादी नहीं तो रिश्ता झूठा है

रिश्ते में अगर आज़ादी नहीं तो रिश्ता झूठा है

रिश्ते में अगर आज़ादी नहीं तो रिश्ता झूठा है |

आचार्य प्रशांत : मालिक मने क्या?

श्रोता : अधिकार जमाने वाला।

वक्ता : अधिकारी?

श्रोता : सर, हमारा जो अहंकार वो हमें एक भ्रम दे देता है की हम मालिक हैं|

वक्ता : सत्य से सम्बंधित एक बहुत मूलभूत बात, पर ज़रा गौर करेंगे। आध्यात्मिकता में, जो कुछ…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org