‘मैं’ भाव क्या है? मैं को कैसे देखें?

‘मैं’ भाव क्या है? मैं को कैसे देखें?

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, ‘मैं’ भाव क्या है? मैं ऐसा महसूस करती हूँ कि शरीर में ‘मैं’ हूँ। ‘मैं’ क्या चीज़ है? जब तक मेरा अस्तित्व है, तब तक मैं ‘मैं’ को महसूस कर रही हूँ। बाद में ये ‘मैं’ कहाँ चला जाता है? क्या होगा इसका?

आचार्य प्रशांत: कुछ नहीं होगा। राख हो जाएगा।

प्र: लेकिन यह जो भाव है ‘मैं’ का, यह शरीर है, यह तो पता है। लेकिन कई बार यह भाव आता है कि कुछ तो है, जो इस…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org