मैं चुप हूँ

मैं चुप हूँ,
वे सब बोल रहे हैं;
क्या बोल रहे हैं?
हह! अब बोल रहे हैं तो बस –
बोल रहे हैं।
पुरुषार्थ को अकड़, भावना को दुर्बलता
तथा चरित्र को फिज़ूल बता,
क्या,
वे अपनी पोल भी नहीं खोल रहे हैं?

~ आचार्य प्रशांत (1995)

आचार्य प्रशांत के विषय में जानने, और संस्था से लाभान्वित होने हेतु आपका स्वागत है

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

795 Followers

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org