माया तो राम की ही दासी है

तव माय बस फिरऊॅं भुलाना ।

ताते मैं नहिं प्रभु पहिचाना ।।

~ संत तुलसीदास

आचार्य प्रशांत: “तव माय”, तुम्हारी माया। “बस फिरऊॅं भुलाना”, उसी के वश होकर भूला-भूला सा, भटका-भटका सा फिर रहा हूँ। “ताते”, उस कारण। “मैं नहिं प्रभु पहिचाना”, मैं प्रभु को पहचान नहीं पाया।

हास्य है भक्त का — विनोद। अपनी स्थिति का वर्णन किया जा रहा है, जाने प्रभु को ही…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org