माया का नाश कैसे हो?

आप खुश हो जाते हो कि मिटी तृष्णा, मिटी वासना, जो लक्ष्य किया था वो मिल गया और आपको ये नहीं पता होता कि जो मिला है वो अपने मिलने के कारण ही और भूख पैदा करेगा।

माया का अर्थ है वो इच्छाएँ जो तुम्हें ये भ्रम देती हैं कि वो कभी भी पूरी हो सकती हैं, तो तुम इस भ्रम में हो कि पूरी हो जाएगी, तृप्ति मिल जाएगी; तुम ये नहीं समझ पाते कि वो यदि पूरी हुई तो उसके पीछे चार और खड़ी है।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org