मन में तो साकार राम ही समाएँगे

जानें जानन जोइए

बिनु जाने को जान।

तुलसी यह सुनि समुझि हियँ

आनु धरें धनु बान।।

~ संत तुलसीदास

आचार्य प्रशांत: जान कर के जान जाएँगे आप और बिना जाने कौन जानेगा? तुलसी खेल रहे हैं, मानो चुनौती-सी दे रहे हैं। कह रहे हैं- अब ये सुनो और समझो और फिर हृदय में धनुर्धारी राम को स्थापित करो। “जो जानता है सिर्फ वही जानता है, बिना जाने कौन जानता है?” तुलसीदास जापान गये नहीं, नहीं तो हम मानते की ‘ज़ेन’ की विधिवत शिक्षा ले कर आए थे। पहेलियाँ बुझा रहे हैं, ‘क्वान’ हैं- “जो जानता है बस वही जानता है और जिसने जाना नहीं वो क्या जानेगा।” ये जानकर के, ये सुनकर, समझ कर हृदय में धनुर्धारी राम को स्थापित करो। दूसरी पंक्ति पहले पढ़िए, पहली समझ में आ जाएगी।

राम दो हैं। पहले ये जानना होता है फिर ये जानना होता है कि ये दोनों राम एक हैं। एक राम वो हैं जिनका शरीर था, जिन्होंने जन्म लिया, जिन्होंने जीवन जिया, जिन्होंने लीला खेली, जिन्होंने युद्ध लड़ा, और फिर एक दिन जो सशरीर विदा भी हो गये और एक राम वो हैं जिनको तुलसी कहते हैं कि-

तुलसी भरोसे राम के निर्भय होकर सोए।

अनहोनी होनी नहीं होनी होय सो होय।।

ये दोनों राम जिस तल पर भिन्न हैं उस तल को जानना जरूरी है फिर जिस तल पर एक हैं उसको आप समझ जाएँगे। सत्य जब भी आविर्भूत होता है, किसी के लिए होता है। आप जैसे हैं आपको वैसा ही चाहिए अन्यथा आप बात नहीं कर सकते। सारी बात किसी संदर्भ में होती है न? रामचरितमानस भी किसी संदर्भ में हैं। रामचरितमानस भी केंद्र में आपको रख रहा है, ये बात मजेदार है समझिएगा। आपको ये बात जाहिर-सी लगती होगी कि रामचरितमानस के केंद्र में राम हैं। मैं कह रहा हूँ मानस के केंद्र में राम नहीं है आप हैं। राम को केंद्र में रखने की जरूरत ही नहीं राम तो हैं। उन्हें केंद्र में रखो चाहे न रखो। मानस के केंद्र में आप हैं मानस आपको ध्यान में रखकर बोली गई है ताकि आपके लिए राम प्रत्यक्ष हो सके।

संतो ने जो कुछ भी कहा है उसके केंद्र में सत्य नहीं होता आप होते हैं। चूँकि निःस्वार्थ भाव से वो आपको केंद्र में रखकर बोलते हैं इसीलिए जो कुछ वो कहते हैं उसके केंद्र में सत्य होता है। मेरी बात सतही तौर पर विरोधाभासी लगेगी और अगर लग रही है तो मेरी विवशता है मैं कुछ कर नहीं सकता। मैं बस आपके लिए प्रार्थना कर सकता हूँ पर समझिएगा।

ये दोनों राम अलग-अलग इसलिए हैं क्योंकि हम दो हैं। एक तो हम वो हैं जो आँखों से देखता है, पाँव से चलता है, हाथ से पकड़ता है और मन-बुद्धि से सोचता है और दूसरे हम वो हैं जो प्यार करता है, जो समझ

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org