मन को संयमित कैसे करें?

हम आमतौर पर ‘संयम’ का अर्थ समझते हैं धैर्य से, या नियंत्रण से। पतंजलि योग-सूत्र में आप जाएँगे तो पाएँगे कि ‘संयम’ का अर्थ है — मन को किसी विषय में दृढ़ता से स्थापित कर देना।

प्रश्न ये नहीं होना चाहिए कि “संयम कैसे करें?” प्रश्न ये होना चाहिए कि “संयम किसपर करें?”

मन को ले जाकर कहाँ बैठा दें? संयम किसपर करें?

मन बिल्कुल शांत हो जाए, मिट जाए, उसको बोल देते हैं — ‘आत्मा’। और मन विस्तार ले ले, पाँच इन्द्रियों का सहारा ले ले, एकदम फैल जाए, प्रकृति और संसार बन जाए, तो उसको कह देते हैं — ‘शरीर’।

इन्द्रियों के विषयों को कहते हैं ‘संसार’, और इन्द्रियों के भोक्ता को कहते हैं — ‘मन’। इन्द्रियाँ सब सामग्री जिसको ले जाकर देती हैं, उसको कहते हैं — ‘मन’।

तो है मन ही। मन का स्थूल और विस्तृत सिरा कहलाता है — ‘संसार’। ‘संसार’ माने जहाँ आपको सब पदार्थ, स्थूल पता चलते हैं। देह भी वही है, स्थूल। मन ने विस्तार ले लिया तो देह है, संसार है। वही मन शांत हो गया, बिन्दुवत हो गया, तो ‘आत्मा’ कहलाता है।

मन ही है।

ऐसा समझ लीजिए, बिंदु है — आत्मा, फिर मन है, और फिर पूरा विस्तार है, संसार है।

मन बैचैन और चंचल रहता है, लेकिन मन की आँखें ऊपर की ओर हैं, संसार की ओर। तो फिर वो चैन कहाँ खोजता है? संसार में। जबकि चैन उसको मिलता है अपने पीछे, अपने नीचे — मिटकर के, बिंदु होकर के। बिंदु हो जाना माने — मिट ही जाना।

तो इसी से बताइए कि मन को किसपर संयम करना चाहिए? हम एक-एक चरण बढ़ा रहे हैं। तो मन को किसपर संयम करना चाहिए? मन कहाँ जाकर बैठ जाए कि उसे शांति मिलेगी? आत्मा पर। अब आत्मा का तो कोई नाम नहीं, पता नहीं, ठिकाना नहीं, नाम नहीं, रूप नहीं, रंग नहीं। तो मन आत्मा पर जाकर कैसे बैठेगा? नहीं बैठ सकता न।

तो फिर जानने वालों ने कहा, “तुम संयम करो इसी संसार में उस विषय पर, जो तुम्हें आत्मा तक ले जा सके।”

तो लोगों ने पूछा, “कैसे पता चलेगा वो विषय?” तो बताने वालों ने कहा, “अच्छा तुम्हें ये तो पता चल सकता है कि संसार में ऐसे कौन-से विषय हैं जो तुम्हें संसार में और उलझाते हैं?” लोगों ने कहा, “हाँ,” तो वो बोले, “पहले उनको हटाओ।” उनके नाम के आगे कट लगाते चलो कि — “ये तो नहीं है, क्योंकि ये संसार का विषय है, इसकी तरफ़ जाओ अगर तो ये संसार में और उलझाता है।”

संसार में ही ख़ास तरह के विषय होते हैं, जिनके पास जाओ अगर, तो वो संसार से आगे, संसार से पलटकर, तुमको आत्मा की ओर ले जाते हैं।

आत्मा पर संयम करने का अर्थ हुआ, मन के सन्दर्भ में — संसार

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org