भीतरी पोषण स्वयं को देते रहना!

कितना भी खा-पी लो
पर भीतर
जो सूक्ष्म मन है
वो तड़पता ही रहता है
क्योंकि
ये खाना-पीना, कपड़ा-लत्ता
उसे तृप्त नहीं कर पाते।

उसे तो तृप्त करती है
उपनिषदों की बात,
संतों के गीत,
जिनके बिना
भीतर से आप बड़े
शुष्क रहेंगे, मुरझाए।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org