बेटा, किस क्लास में हो? गूगल करना नहीं आता?

प्रश्नकर्ता: ग्लोबल-वार्मिंग (वैश्विक ऊष्मीकरण) तो पिछले सौ साल में भी नहीं पिछले पचास साल में ही ज़्यादा हुई है पर नॉन-वेज (माँसाहार) तो पंद्रह-हज़ार साल से खाया जा रहा है तो फिर आप क्यों बोलते हैं कि ग्लोबल-वार्मिंग और नॉन-वेज (माँसाहार) में कोई लिंक (संबंध) है?

आचार्य प्रशांत: बेटा, किस क्लास (कक्षा) में हैं आप? पहली बात तो जिसको आप नॉन-वेज (माँसाहार) बोल रही हैं वह सीधे-सीधे माँस है, तो…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

Encountering Crosby the Cat in NYC.

Reverence for Life — Albert Schweitzer’s Core Ethical Principle

The Elements Of Grounding Techniques

a woodland hollow with arching branches

Julia Goldstein: Small Actions by Millions Can Change the World