बेटा, किस क्लास में हो? गूगल करना नहीं आता?

प्रश्नकर्ता: ग्लोबल-वार्मिंग (वैश्विक ऊष्मीकरण) तो पिछले सौ साल में भी नहीं पिछले पचास साल में ही ज़्यादा हुई है पर नॉन-वेज (माँसाहार) तो पंद्रह-हज़ार साल से खाया जा रहा है तो फिर आप क्यों बोलते हैं कि ग्लोबल-वार्मिंग और नॉन-वेज (माँसाहार) में कोई लिंक (संबंध) है?

आचार्य प्रशांत: बेटा, किस क्लास (कक्षा) में हैं आप? पहली बात तो जिसको आप नॉन-वेज (माँसाहार) बोल रही हैं वह सीधे-सीधे माँस है, तो हम उसे बोलेंगे — माँस। वह पंद्रह-हज़ार साल से नहीं खाया जा रहा, वह डेढ़-लाख साल से खाया जा रहा है, वह पंद्रह-लाख साल से खाया जा रहा है, वह डेढ़-करोड़ साल से खाया जा रहा है। कौन खा रहा था? खाने वाला जो था वह जंगल का प्राणी था। वह पूरे तरीके से प्रकृति के नियमों के अधीन था। जब वह प्रकृति के नियमों के अधीन था तो उसकी बहुत ज़्यादा तादाद, संख्या भी नहीं बढ़ी थी। वह प्रकृति के नियमों के अधीन था उसकी बहुत तादाद नहीं बढ़ी थी, वह जानवर था एक, और जानवर तब खाते थे, जानवर आज भी खा रहे हैं। आदमी भी जंगल में रहता था तो कुछ हद तक वह माँसाहारी था। यह भी मत कहिएगा कि आदमी जब जंगल में रहता था तो पूरी तरह से माँसाहारी था, पूरी तरह माँसाहारी नहीं था वह लगभग पूरी तरह शाकाहारी था।

आपको अगर जंगल भेज दिया जाए तो आपके लिए ज़्यादा आसान क्या होगा? फल खाना या हिरण को दौड़ाकर के मार कर खाना? तो आपको क्यों लगता है कि जो हमारे पुरखे थे जब वो जंगल में रहते थे तो दौड़ा-दौड़ा कर के हिरणों को मारते थे और हाथियों को मारते थे और खा लेते थे? जहाँ तक दौड़ाकर के पकड़ने और खाने की बात है, आपको एक मुर्गा ही खाना हो, आप उसे दौड़ा कर पकड़ कर दिखाइए। हिरण पकड़ने की बात तो बहुत दूर की है, एक मुर्गा जो उड़ भी नहीं पाता आप दौड़ाकर के उसे ही पकड़ के दिखा दीजिए। आज आप एक मुर्गा दौड़ा कर नहीं पकड़ पाते आपको क्यों लगता है कि हमारे जो सब परपितामह थे, पुरखे जंगल में रहते थे वो इतने ज़बरदस्त थे कि वो दौड़ा-दौड़ा कर के चीते पकड़ा करते थे? कि वो कूद-कूद कर बंदर लपक लिया करते थे, कि वो नदियों में डाइव (छलाँग) मारते थे और शार्क निकाल लाते थे बाहर?

यह आपको क्यों लग रहा है कि हमारे जो पुरखे सब रहते थे वो माँस-ही-माँस खाते थे? भाई, माँस इतना आसान नहीं होता। माँस पेड़ पर नहीं टंगा है। एक जीता-जागता जानवर है वो। उसको तुम पकड़ने जाओगे वह भागेगा और तब तुम्हारे पास टेक्नालजी (प्रौद्योगिकी) नहीं थी, कैसे पकड़ लेते थे? ज़ाहिर सी बात है और अब विज्ञान ने भी इस बात को प्रमाणित कर दिया है, जो लेटैस्ट रिसर्च (हालिया शोध) हैं उसको पढ़िएगा, आपको पता चल जाएगा कि आदिमनव जो था वह लगभग पूरी तरह से शाकाहारी ही था।

खैर, यह तो एक बात हुई। हमने मान भी लिया कि थोड़ा-बहुत वह माँस खा लेता होगा, जहाँ भी…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org