बल का एक ही तर्क होता है: धर्म

और दुर्बलता के पास हज़ारों तर्क होते हैं।

बल के पास बहुत तर्क होते ही नहीं,

उसको एक ही तर्क पता है -

जो धर्मोचित है वो होना चाहिए।

दुर्बलता अपने आप को

बचाने और छुपाने के लिए

हज़ारों तर्क गढ़ लेती है।

~ आचार्य प्रशांत

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org