पढ़ने बैठो तो मन भागता है

पढ़ने बैठो तो मन भागता है

प्रश्न: आचार्य जी प्रणाम! मेरा प्रश्न कि — मन तो कैसे एकाग्र रखें? मैं कोई एक विषय पढ़ता हूँ तो दूसरे विषय में चला जाता हूँ। मन को कैसे एकाग्र रखूँ?

आचार्य प्रशांत: क्यों पढ़ते हो?

प्रश्नकर्ता: पढ़ाई में आगे बढ़ने के लिए।

आचार्य प्रशांत: तुमने ख़ुद चुना है पढ़ना?

प्रश्नकर्ता: चिकित्सा विज्ञान का छात्र हूँ, चिकित्सक बनकर लोगों की सेवा करनी है, तो पढ़ना…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org