प्रेम में तोहफ़े नहीं दिए जाते, स्वयं को दिया जाता है

प्रश्नकर्ता (प्र): सर, आपने कहा था कि तुम्हें कैसे पता कि खीर पसंद है कि मक्खन। तो अगर हम प्रेम से भोग लगा रहे हैं, तो क्या वो भी वैसी ही बात हुई?

आचार्य प्रशांत (आचार्य): प्रेम प्रमुख है न। न पत्र, न पुष्प, न फल। प्रमुख क्या है? प्रेम। अब प्रेम से देने के लिए, देखिये, कोई बहुत बड़ी चीज़ें तो नहीं कही गई हैं। पत्र माने पत्ता, पुष्प माने फूल, न सोना न चांदी। फूल, पत्ता। प्यार से फूल, पत्ता चढ़ा दो बढ़िया है, बहुत है, काफ़ी है। और जिस समय में गीता कही गई थी उस समय में प्रचुरता थी पत्र और पुष्प की, फलों की। तो जब कहा जा रहा है कि फूल, पत्ता, फल तो यही कहा जा रहा है कि वही चढ़ा दो, जो सर्वाधिक सुलभ है। जो यूँ ही मिल जाएगा चलते-फिरते, फूल, पत्ता, फल चढ़ा दो। ये कहा गया है कि जा कर के कोई विशेष फल लेकर आओ या कोई विशेष पुष्प ले कर आओ? कोई ऐसा फूल माँगा है कृष्ण ने कि जो फ्रांस में उगता हो? इतना ही कहा है कि भाई, यही सब ठीक है। अगल-बगल, किनारे, इधर-उधर, जो मिले।

प्र१: ये भी तो कई बार होता है न कि इंगित किया जाता है और हम लोग शब्द पकड़ लेते हैं।

प्र२: हाँ, वो तो है। पर इसमें ये है कि अगर, “मैं खीर का भोग लगा रही हूँ”, तो उसमें मैंने अपने अहम् का उपयोग किया है या प्रेम का? वो कैसे पता लगेगा? क्योंकि मैंने तो बहुत प्रेम से बनाया, पर मुझे तो भगवन ने नहीं आ के कहा कि, “मेरे लिए खीर बनाओ।’’

आचार्य: जब प्रेम होगा तब खीर ही नहीं देंगी आप, सब कुछ देंगी। आपको जिससे प्रेम होता है, आपका एक नाखून बड़ा सुन्दर है, खूब आपने उसको धोया है, चमकाया है और रंगा है। आप प्रेमी के पास जाती हैं, तो उसे नाखून दिखाती रहेंगी या अपना सर्वस्व दे देती हैं? बात समझ में आ रही है?

जहाँ प्रेम होगा, वहाँ खीर ही भर नहीं दोगे, वहाँ तो पूरा दोगे। या ये कहोगे कि खीर मीठी है, तो खीर ही लो। लो नाखून लो तुम बस। जहाँ प्रेम होता है, वहाँ लुक्का-छुप्पी नहीं होती। ऐसा नहीं होता कि ये एक विशेष चीज़ है, तुम्हारी है। विशेष हो कि निर्विशेष हो, जैसे हैं तुम्हारे हैं और खबरदार अगर तुमने ठुकराया। और फिर यह भी नहीं होता कि साल में एक दिन लाए हैं खीर तुम्हारे लिए, फिर तो साल में जो भी बनेगा, जिस दिन भी बनेगा तुम्हारा ही है। आज खाना बिगड़ गया तो खाओगे वो तुम भी, आज खान नहीं बना तो भूखे रहोगे तुम भी। फिर तो जैसे हम, वैसे तुम। हाँ, इतना ठीक है कि हमसे पहले खा लो। पर ये तो नहीं करोगे न कि, “आज तुम्हारा बर्थडे है, तो आज खीर ले लो।” और बाकी दिनों?

सर्वस्व न्योछावर करो, पूरे हो जाओ, खीर भी तुम्हारी, भगौना भी तुम्हारा,करछुल भी तुम्हारा, आग भी तुम्हारी। हम ही तुम्हारे।

पूरा वीडियो यहाँ देखें।

आचार्य प्रशांत और उनके साहित्य के विषय में जानने, और संस्था से लाभान्वित होने हेतु आपका स्वागत है।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org