परिस्थितियों से भागना क्या सही है?

प्रश्न: कभी-कभी ऐसा होता है कि मन करता है कि सब कुछ छोड़-छाड़ कर चला जाऊँ, क्या ऐसा करना सही होगा?

आचार्य प्रशांत: देखो दो तरह की बातें हो सकती हैं:

१. एक बात होती है सौलिटयुड, एकांत, एकांत का मतलब यह होता है कि मैं यह देख पा रहा हूँ कि अभी जो स्थिति है, यह मेरे मन पर छा रही है, हावी हो रही है, तो मैं थोड़ी देर के लिए एक किनारा चाहता हूँ, एकांत चाहता हूँ, मैं चला गया हिल स्टेशन

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org