निडर होकर दुनिया का अनुभव कैसे करें?

प्रश्नकर्ता: डर जो होता है हमें हमेशा हो आउटवार्डली रखता है उसकी वजह से ये जो गहराई है यानी कि व्यवहार में एक तरह का संतुलन रहे, इधर के भी ज्ञान रहे और उधर का भी तब जा कर आप फिर एक तरफ के पूरी तरह से हो पाते हो (ऑल इन)

आचार्य प्रशांत: ऑल इन नहीं हो पाते हो, ये धारणा झूठी है! ‘डर’ भी तुमको पूरे तरीके से संसार का नहीं होने देता। ‘डर’ ही तो तुम्हें संसार का नहीं होने देता। संसार के प्रति तुम कोई भी…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

Self Improvement — Get rid of unpunctuality forever

Fitting in: DON’T

Why Intelligent People Prefer To Be Alone?

A 3 step adventure for writers dealing with imposter syndrome that will help to look fear in the…