निंदा का सुख!

इंसान दूसरों के भीतर सिर्फ़ कमियाँं ही नहीं देखता, वो दूसरों को ऊँचा चढ़ा कर आदर्श भी बनाता है। असल में हम दूसरों को जब भी देखते हैं, तो दो ही तरीके से देखते हैं। पहला, इसमें खोट क्या है। दूसरा, इसमें प्रशंसनीय क्या है।

मैंने अपने लिए कुछ मूल्य निर्धारित कर रखे हैं। उन मूल्यों पर मैंने तुमको तोला और पाया कि हल्के हो। तो मैंने कहा, ‘खोट है इसमें कुछ’। फिर मैंने किसी और को लिया और मैंने कहा, ‘वो तो बड़ा तारीफ़ के काबिल है’। और तारीफ़ के काबिल क्यों है? क्योंकि जिन बातों को मैं समझता हूं कि बड़ी कीमती हैं, उन पर वो खरा उतरता है।

तुम्हारी निंदा करके मैंने इतना ही किया कि अपने आप को ठीक ठहराया।

मान लो मैंने एक मूल्य बांध रखा है कि सफ़ेद रंग, गोरा रंग बड़ा अच्छा होता है। तुम्हारी निंदा करके, मैं अपने मूल्य की पुष्टि करता हूं। मैं कहता हूं कि जो मैंने सोचा है, दुनिया में ‘वही’ ठीक है। उसकी तारीफ़ करके भी मैं यही कहता हूं कि मैंने जैसा सोचा है, दुनिया ‘वैसी’ ही है। दुनिया के केंद्र पर मैंने अपने आप को ही रखा हुआ है। मैं क्या सोचता हूं, उसी के मुताबिक कोई ‘निंदनीय’ हो जाता है, कोई ‘प्रशंसनीय’ हो जाता है।

तो दूसरे की बुराई करो, चाहे दूसरे की बड़ाई करो, तुम काम एक ही कर रहे हो। वो काम है, अपने अहंकार को बढ़ावा देना।

चाहे किसी को छोटा बोलो, चाहे किसी को बड़ा बोलो, बोलने वाले तो तुम ही हो। तो उन दोनों से बड़े तुम हो। ‘तू बड़ा है, तू छोटा है और इसका निर्णय करने वाले हम हैं’। तो दोनों से बड़ा कौन हुआ? वो हम हुए।

तुमने देखा है, छोटे से छोटा आदमी भी बैठ कर तय कर रहा होता है कि दिल्ली में जो नीतियां चल रहीं हैं, वो सही हैं या गलत हैं। ‘मोदी की जो योजना है ना, वो ठीक नहीं है। केजरीवाल को ऐसा करना चाहिए’। और वो इस पर बड़ी गंभीरता से चर्चा कर रहा होगा। राजनीति में उसने कभी “र” भी नहीं देखा है, पर बड़ी गहनता से चर्चा कर रहा है कि नरेंद्र मोदी को और अरविंद केजरीवाल को क्या करना चाहिए। ये समझ रहे हो क्या हो रहा है? ये भीतर से उसका दंभ आवाज दे रहा है कि ये काहे के राजनेता हैं? असली राजनीती तो हम जानते हैं। इन दोनों को हमसे सीखना चाहिए। कभी क्रिकेट का एक मैच चल रहा होता है, तुमने देखा होगा। ऐसे लोग, जिन्होंने कभी हाथ में बल्ला नहीं उठाया, कोई क्रिकेटर है, वो शॉट मरेगा और इधर से कहेंगे, ‘ऐसे नहीं मारना चाहिए था, इसको तो हल्के से फ्लिक कर देता, चार रन मिल जाते। ये कैसे इसने मिस कर दिया? यार ये क्या कर रहा है? इसने कोई बाउंसर डाली है, कमर की ऊंचाई तक? अरे, बाउंसर डाले तो कम से कम कान के बगल से निकले’। और ये ऐसे लोग हैं कि जिन्हें कह दिया जाए कि गेंद लुढ़का दो, तो इनकी लुढकाई गेंद बाईस गज भी नहीं पार करेगी। और ये बता…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org