नवरात्रि का वास्तविक अर्थ

इन नौ दिनों में, नवरात्रि में, शक्ति के नौ रूपों की पूजा बताती है हमको कि संसार के, जीवन के, समस्त रूप पूजनीय हैं। और वो बहुत कुछ धर्म के बारे में सिखा जाती है।

कहा गया है हमसे कि सत्य अरूप है, सत्य अचिंत्य है, निर्गुण, निराकार है, लेकिन जब आप शक्ति के नौ रूपों को पूजते हो तो आपसे उससे आगे की एक बात कही जाती है —

ऐसी बात जो ज़्यादा सार्थक, व्यवहारिक और उपयोगी है:

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org