ध्यान वो जो अनवरत चले

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, नमन। मेरा मन अभी भी उलझाव महसूस करता है। हालाँकि मैं हर रोज़ ध्यान करता हूँ, पर सुधार नहीं दिख रहा है। कृपया बताएँ कि मैं अपनी नित्य क्रियाओं में ऐसा क्या बदलाव लाऊँ जिससे ये उलझाव कम होने लगे। कृपया मार्गदर्शन करें।

आचार्य प्रशांत: ये ग़ौर करना कि ध्यान से तुमको उठा क्या देता है। ध्यान, तुम कह रहे हो, करते हो; कोई क्रिया होगी जिसे तुम करते होगे। किसी गतिविधि को ध्यान कह रहे हो, तभी तो उसको ‘करते हो’ न। कोई कर्म होगा तभी कह रहे हो उसको ‘करता हूँ’। तो वो जो भी कर्म है ध्यान का, वो कर्म रुक क्यों जाता है, इस पर ध्यान देना। निरीक्षण करके मुझको बताना।

सुबह सात से आठ, उदाहरण के लिए, तुम बैठते हो ध्यान करने। मुझे बताना कि आठ बजे उठ क्यों जाते हो। कौन-सी चीज़ है जो तुम्हारा ध्यान खंडित कर देती है? और मुझे बताना कि सात से आठ के मध्य भी कौन-सी चीज़ें हैं जो तुम्हारे ध्यान को विचलित कर देती हैं। समझ ही गए होगे, मैं जानना चाहता हूँ कि क्या है जो तुम्हारे ध्यान पर भारी पड़ता है।

कोई तो वजह होगी न कि तुम कहते हो कि आठ बजे ध्यान भंग कर ही देना है। ध्यान अगर वास्तव में तुम्हें बहुत प्यारा होता तो तुम आठ बजे उठ क्यों जाते? ज़रूर कोई ऐसी चीज़ मिल जाती होगी जो ध्यान से भी ज़्यादा कीमती होगी, तो तुम कहते हो, “चलो उठना ही पड़ेगा आठ बजे।” उस पर ग़ौर करो।

तुमने पूछा है न कि “आचार्य जी, मैं अपनी नित्य क्रियाओं में क्या बदलाव लाऊँ कि उलझन कम होने लगे?”

तुम्हारी नित्य क्रियाओं में ही कुछ इतना आकर्षक है जो तुम्हारे ध्यान को भंग कर देता है। तुम्हारी नित्य क्रियाओं में ही कुछ इतना रसीला है कि तुम्हारे ध्यान में विक्षेप बन जाता है। वो क्या है?

और बात बहुत साधारण-सी है। गहरे जा करके रूह मत टटोलने लगना। आठ बजे तुम इसलिए उठ जाते हो क्योंकि नौ बजे दुकान पहुँचना है। बस यही है जो तुम्हारे ध्यान को खंडित कर रहा है। दुकान इतनी ज़रूरी है कि उसके लिए ध्यान तोड़ना ज़रूरी है।

हर व्यक्ति जो कहता है कि इतने से इतने बजे तक ही ध्यान करूँगा, वो इस बात का जवाब दे कि वो एक बिंदु पर आकर अपना ध्यान क्यों तोड़ देता है, उठ क्यों जाता है।

ध्यान से उठने का मतलब ही है कि तुम्हें ध्यान से ज़्यादा आवश्यक कुछ मिल गया न। बताओ, क्या है जो तुमने ध्यान से ज़्यादा आवश्यक मान रखा है? वही बोझ है तुम्हारे जीवन का। जिसकी ख़ातिर तुम ध्यान तोड़ देते हो, वही तुम्हारे जीवन का नर्क है।

कोई कहेगा, “आठ बजे इसलिए उठ जाते हैं क्योंकि बच्चे को स्कूल (विद्यालय) छोड़कर आना है”; समझ लो कि कहाँ फँसे हुए हो। कोई बोलेगा, “आठ बजे उठ जाते हैं क्योंकि दफ़्तर भी तो जाना है।” “नहीं, मैं तो छः से सात ध्यान करती हूँ, सात बजे पति के लिए नाश्ता बनाना है”, तो देख लो न कि तुमने ध्यान अर्थात् सत्य से ज़्यादा ज़रूरी पतिदेव का नाश्ता रख दिया।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org