धर्म क्या है?

पशु कौन?
जिसकी चेतना देह-केंद्रित हो,
जो शारीरिक सुख को ही सर्वोपरि मानता हो,
और जिसमें न ध्यान हो न करुणा।

धर्म ही मनुष्य को पशु से अलग बनाता है।

धर्म है जीवन के सत्य की खोज,
और भय व बंधन से मुक्ति।

धर्म का आज जितना तिरस्कार कभी न था।
मनुष्य आज जितनी वेदना में कभी न था।

पूरा वीडियो यहाँ देखें।

आचार्य प्रशांत के विषय में जानने, और संस्था से लाभान्वित होने हेतु आपका स्वागत है

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

The essential is invisible

Hook: The line that makes you stop and read…

Frustration, Satisfaction, and Death

Why do you do something you don’t want to do?