तुम मानव हो या मशीन?

प्रश्न: आचार्य जी, अचानक गुस्सा क्यों आता है?

आचार्य प्रशांत: बल्ब चालू करते हो, कितना टाइम लगता है बल्ब को जलने में? सब कुछ अचानक हो जाता है ना? हम भी वैसे ही हैं।

प्रश्नकर्ता: लेकिन बाद में दुःख होता है ना, कि हमने गलत किया !

आचार्य प्रशांत: बाद में वो जो बंद होता है पंखा चलने के बाद, तो गर्मी होती है उसमें खूब। गर्मी पैदा हो गई होती है, वो बाद में पता चलती है।

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

795 Followers

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org