तुम्हें बहुत दुःख हो, उससे हटने का एक ही तरीका है − उचित कर्म में उतर जाओ।

तुम्हारे सामने पहाड़ जैसी चुनौतियाँ, समस्याएँ, दुःख खड़े हों, तुम उचित कर्म करने लग जाओ।

भले ही वो उचित कर्म उस पहाड़ के सामने छोटा-सा हो, पर वो छोटा-सा उचित कर्म पहाड़ जैसे दुःख पर भारी पड़ेगा!

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store