तुम्हारी‌ ‌ही‌ ‌रोशनी‌ ‌गुरु‌ ‌बनकर‌ ‌सामने‌ ‌आ‌ ‌जाती‌ ‌है

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, क्या हममें क्षमता नहीं है जीवन को समझने की? क्या गुरु का होना ज़रुरी है?

आचार्य प्रशांत: ये नहीं कहना चाहिए कि हममें क्षमता नहीं है तो हमें गुरु का सहारा लेना चाहिए। इसको ऐसे कहते हैं कि हमारी हीं जो क्षमता है वो हमारे सामने गुरु बनकर खड़ी हो गयी है। अगर कहोगे, “हमारी क्षमता नहीं है इसलिए हमें गुरु का साथ लेना है” तो तुमने गुरु को क्या बना दिया? पराया बना दिया न। तुमने कहा, “मैं और मेरी क्षमता, ये अधूरे हैं तो फ़िर इसीलिए मैं किसी और की मदद ले रहा हूँ” तो फ़िर वो ‘और’ कौन हो गया? अपना तो तुमने कह दिया कि ‘मैं हूँ’ और ‘मेरी क्षमता’ तो फ़िर गुरु क्या हो गया? पराया हो गया न। पराया हो गया तो फ़िर मदद कैसे होगी?

तो इसको कहते हैं कि मेरी ही क्षमता मेरी आँखों के सामने खड़ी हो गयी है गुरु बन कर। वो सामने खड़ी हो गयी है ताकि अंदर वाली क्षमता को जगा सके। वो बाहर दिखाई दे रही है ताकि अंदर वाले का ध्यान आ जाए। बाहर दिख रही है, बाहर है नहीं। गुरु बाहर दिख रहा है, बाहर है नहीं। ये उसकी करुणा है कि वो बाहर दिख रहा है। ये उसकी करुणा है कि उसने खाल ओढ़ ली है, कपड़े पहन लिए हैं, साकार हो गया है। वो बाहर का नहीं है, वो भीतर का ही है।

पर जब तक वो भीतर-भीतर है तुम उसकी बात सुनते नहीं। तो फ़िर उसे बाहर आकर खड़ा होना पड़ता है। क्यों? क्योंकि तुमने किसकी सुननी शुरू कर दी है? बाहर वालों की। चूँकि अब तुमने बाहर वालों की सुननी शुरू कर दी है तो वो कहता है, “चलो ठीक है! तुम बाहर वालों की ही सुनते हो तो मैं बाहर आ कर खड़ा हो जाता हूँ तुम्हारे सामने।” वो बाहर का नहीं है, है भीतर का पर तुम्हारी ज़िद के कारण उसे तुम्हारे बाहर खड़ा होना पड़ता है। वो दिखता बाहर का है, है भीतर का। तो ऐसे नहीं कहते कि हमारी क्षमता नहीं है तो गुरु का सहारा ले लिया। तुम्हारी ही क्षमता है तभी तो गुरु है।

तुम्हारी ही प्रबल क्षमता गुरु बनकर सामने आती है और इसीलिए जब तक तुम चाहते नहीं, तैयार होते नहीं, गुरु सामने आता नहीं क्योंकि निर्भर सबकुछ तुम पर कर रहा है, क्षमता तुम्हारी है।

सबसे नीचे की हालत वो है जब गुरु हो ही नहीं कहीं- न अंदर न बाहर। ये निन्यानवे प्रतिशत लोगों की हालत है। वो भीतर तो किसी गुरु को पाते नहीं, उनके भीतर बस अंधकार, अहंकार, मल-मूत्र भरा हुआ है और बाहर भी उनके लिए कोई गुरु नहीं है। ये निन्यानवे प्रतिशत लोगों की हालत है। ये निम्नतम हालत है, ये सब से नीच हालत है कि अंदर भी गुरु नहीं और बाहर भी कोई गुरु नहीं।

और ऐसे में जब बाहर गुरु नहीं होता, तब बाहर जो दुनिया है वो गुरु बन जाती है। वो झूठा गुरु होती है पर भीतर चूँकि अंधकार है…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org