डर, बंधन और मुक्ति

कोई तुम पर ताकत चला नहीं सकता जब तक तुम्हारे भीतर या तो डर न हो, या तो लालच न हो।

जब भी पाओ कि कोई तुम पर हावी हो रहा है, जब भी तुम पाओ कि तुम्हारे ऊपर किसी ताकत का कब्ज़ा हो रहा है तो समझ जाना कि तुम लालची हो या डरे हुए हो।

लालच को हटाओ, और डर को हटाओ, और कोई डर तुम पर चल नहीं पाएगा।

तुम्हें लड़ने की जरूरत नहीं है सामने वाले से।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org