झूठ की मजबूरी जानते हो?

उन गलतियों की
कोई माफ़ी नहीं है,
जहाँ आप जानते हैं
क्या सही क्या गलत
लेकिन जानते-बूझते
गलत को चुनें।

फैसले की घड़ी
कुछ देर की चुनौती होती है।
लालच-डर-वासना
ये उस समय ज़ोरदार हमला करते हैं।
इनका वार बस
उस एक घड़ी
बर्दाश्त कर जाओ
तो लंबे समय
चैन से जियोगे।

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

800 Followers

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org