झूठा प्रेम

हमने सब झूठी चीज़ों को प्रेम का नाम दे दिया है — “मुझे तुमसे एक आकर्षण हो गया क्योंकि मेरी एक ख़ास उम्र है और तुम्हारी भी एक ख़ास उम्र है। इस उम्र में शरीर की ग्रंथियाँ सक्रिय हो जाती हैं।” सीधे-सीधे ये एक शारीरिक आकर्षण है, यौन आकर्षण है। मैं इसको क्या नाम दे देता हूँ? मैं बोल दूँगा, “ये प्रेम है।”

क्या ये प्रेम है?

पर नाम हम इसे प्रेम का ही देंगे।

इसी तरीक़े से जब बच्चा पैदा होता है, माँ का उससे मोह है। उस मोह को ममता का नाम दिया जाता है। ‘मम’ शब्द का अर्थ समझते हो?

‘मम’ माने ‘मेरा’

‘ममता’ का अर्थ भी प्रेम कतई नहीं है। ममता का अर्थ है, “ये चीज़ मेरी है, इसलिए मुझे पसंद है।” हम उसे क्या नाम दे देते हैं? हम कह देते हैं — माँ का बेटे से प्रेम है। वो प्रेम नहीं है, वही बच्चा जिससे आज उसको इतनी ‘ममता’ है, छः महीने बाद पता चले कि बच्चा अस्पताल में बदल गया था, तो क्या करेगी वो? इसी बच्चे को उठाकर कहेगी कि “मेरा बच्चा बदल कर लाओ।” होगा कि नहीं होगा? क्या ऐसा नहीं होता? छः महीने बाद अगर माँ को पता चले कि बच्चा बदल गया था तो क्या इसी को रखे रहेगी या अपने वाले को ले आएगी? अगर वो मिल जाएगा तो उसको ले आयेगी!

जीवन जीने के दो ढंग हैं - ‘प्यार’ में जियो या ‘व्यापार’ में जियो!

हमने प्यार वाला ढंग कभी जाना नहीं, हमने व्यापार का ढंग ही जाना है — “तू मेरे लिए ये कर और मैं तेरे लिए वो करूँगा।” इसलिए हम अपेक्षाओं में ही जीते रहते हैं। हर चीज़ से हमारी अपेक्षा है। हमें तो अपने आपसे भी बड़ी अपेक्षाएँ हैं, ये भूलना मत! तुम अपने आपको कितनी गालियाँ देते हो जब अपनी अपेक्षाएँ पूरी नहीं कर पाते क्योंकि तुम अपने आपसे भी प्रेम नहीं करते। तुम ये नहीं कहते, “मैं जैसा हूँ, सो हूँ।” तुम कहते हो, “मैं जब कुछ हो जाऊँगा तब मैं अपने आपको स्वीकार कर सकता हूँ। अभी तो मैं जैसा हूँ तो घृणास्पद हूँ। अभी मुझमें ऐसा कुछ भी नहीं जो प्रेम के काबिल हो।”

यही तुम्हें लगातार बताया भी जाता है — “तुम हो ही क्या? पहले इंजिनियर बन जाओ, कुछ बन जाओ, तब तुम्हारा जीवन जीने लायक होगा। अभी तो तुम बेकार हो, व्यर्थ है तुम्हारा जीवन। अभी तो तुम यही करो कि लक्ष्य के पीछे भागो, कुछ बन जाओ!”

अपेक्षा!

ये सब नकली प्रेम है जिनको हमने ‘प्रेम’ का नाम दे दिया है। ये सब नकली प्रेम है। जब ये नकली प्रेम होते हैं तो घृणा कहीं दूर नहीं होती, वो आसपास ही होती है इसलिए वो झट से आ जाती है।

पति-पत्नियों में देखा है कितने ज़बरदस्त झगड़े होते हैं? और झगड़े न हों तो उनकी गृहस्थी आगे ही न बढ़े! उस प्रेम में घृणा अंदर मिश्रित होती है, जैसे दूध और…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org