ज्ञानी वो जिसके लिए अब कुछ भी आफ़त नहीं है

मन के निरोध की कोशिश वैसी ही है जैसे मैं चल-चल कर रुकने की कोशिश करूँ। मन को रोकने की कोशिश वैसी ही है जैसे की मैं ख़ूब सोचूँ कि कैसे न सोचा जाए। मन को रोकने की कोशिश वैसी ही है जैसे मैं कोयला लेके किसी दीवार को साफ़ करने की कोशिश करूँ।

हम क्यों भूल जाते हैं कि कोशिश करने वाला कौन है। हम क्यों भूल जाते हैं कि हर कोशिश के पीछे उसकी वृत्ति अपने आप को ही कायम रखने की है। मन किसी भी बात के लिए…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

Who among us will become extinct?

April Fools

When I tell you I forgot all about you, remember…

A Sorrowful Reunion