जो तुम उपलब्ध करना चाहते हो, अपने आप को बार-बार याद दिलाओ कि वो तुम क्यों उपलब्ध करना चाहते हो, और वो उपलब्ध करके क्या मिलेगा।

उपलब्धि से पहले की प्रेरणा क्या है, इंस्पिरेशन क्या है — ये अपने आप को बार-बार याद दिलाओ, क्योंकि ये हम भूल जाते हैं। और उपलब्धि के बाद क्या मिलेगा, उसका परिणाम क्या है, रिसल्ट क्या है, ये भी अपने आप को बार-बार याद दिलाओ, क्योंकि वो भी हम भूल जाते हैं।

यूँही तुमने किसी चीज़ को उपलब्ध करने की कोशिश शुरु नहीं की है।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org