जो अपने स्वाभाविक चेहरे में ही रहते हैं, उन्हें धन्यता यह मिलती है कि अब वो हज़ार अन्य चेहरे पहन सकते हैं।

वो सारे चेहरे अब जीवन हैं उनके लिए — अब गति है, अब क्रीडा है, शोभा है, अभिव्यक्ति है।

और जिसके पास अपना चेहरा नहीं, वो भी हज़ार अन्य चेहरे पहनता है, उसके लिए वो सारे चेहरे — विवशता हैं, मजबूरी हैं, एक कारुणिक क्रंदन है।

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store