जितना तुम अपने आप को बचाते हो, तुम अपने दुःख को बचाते हो

ओशो जब आपसे कह रहे हैं कि डर का स्वागत करो, और पीड़ा का स्वागत करो, और जीवन के तमाम उतार चढ़ावों का स्वागत करो; तो वो वस्तुतः आपसे ये कह रहे हैं कि जितने तरह के दूषण हो सकते हैं, विकार हो सकते हैं, मलिनताएँ हो सकती हैं, उन सब से मिलते चलो, क्योंकि उनसे मिलने के बाद ही वो मिलता है जो निर्मल कर देता है, और निर्दोष कर देता है, और निर्विकार कर देता है। ये विचित्र है ज़रा सा, पर ऐसा ही है कि कोई…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org