छोटी बातों में उलझे रहोगे तो बड़ा काम कब करोगे?

प्रश्न: आचार्य जी, आपके वीडियो में एक बात सुनी थी, वो बात मन में ठहर गई। अब जो भी हरकत करता हूँ, जो भी गलती करता हूँ, तो उस वीडियो में सुनी उस बात को याद कर लेता हूँ, और उसी के संदर्भ में सीखने का प्रयास करता हूँ।

आपने कहा था कि एक लाख तेईस हज़ार चार सौ छप्पन (१,२३,४५६) में से ‘एक (१)’ को मिटाना, ‘एक (१)’ को हटाना ही असली कला है, साधना है। ‘एक (१)’ को हटा दिया तो सीधे घटकर तेईस हज़ार चार सौ छप्पन (२३,४५६) बच जाएगा।

मैं ‘छह (६)’ और ‘पाँच (५)’ को तो हटा देता हूँ, ‘एक (१)’ का मुझे दूर-दूर तक कोई पता ही नहीं है। इतनी सूक्ष्म दृष्टि ही नहीं है कि उस ‘एक (१)’ को देख पाऊँ; ‘छह (६)’ और ‘पाँच (५)’ में अदल-बदल करता रहता हूँ और थक जाता हूँ।

कृपया मार्गदर्शन करें।

आचार्य प्रशांत: १ वही है जो तुम्हारा ध्यान ५ और ६ पर केंद्रित रखता है। मिल गया १? मैंने कहा था कि तुम्हारी समस्याएँ १,२३,४५६ हैं। १,२३,४५६ तुम्हारी समस्याएँ हैं, तुम १ पर आक्रमण करो, ज़्यादातर मामला सुलझ जाएगा। फिर जब १ पर कर लो, तो २ पर करो।

हम उलटा करते हैं। हम उलझे रह जाते हैं — ५ और ६ के साथ।

५ और ६ में तुमने अगर फ़तह पा भी ली, तो किस काम की?

तो अब पूछा है इन्होंने कि, “मैं तो बड़ी कोशिश करता हूँ, लेकिन ५ और ६ में ही उलझा रह जाता हूँ, १ का मुझे कुछ पता ही नहीं लग रहा है।” मैंने कहा, “१ सामने ही तो है; १ वही है जो तुमको ५ और ६ में उलझाए रखता है।”

देखो कि क्या है जो तुम्हें ५ और ६ से आगे देखने हीं नहीं देता, उसी का नाम १ है। वो अपनी सुरक्षा के लिए तुम्हारे सामने झूठी चुनौतियाँ खड़ी कर देता है — जैसे कि सेना का अधिपति (जनरल), जो चक्रव्यूह जैसा कुछ निर्मित करे। चक्रव्यूह समझते हो? उसमें बहुत सारे चक्र होते हैं। क़रीब-क़रीब ‘कंसेट्रिक सरकल्स’ (एक हीं केंद्र वाला वृत्त) जैसे। और उस चक्रव्यूह के केंद्र में कौन बैठ जाता है ख़ुद? जनरल। सबसे जो बाहर का चक्र है, जो सबसे बाहर का वृत्त है, घेरा है, उसमें वो किनको खड़ा कर देता है? जो बिल्कुल सबसे अदने स्तर के सिपाही हैं। ठीक है? छह घेरे हैं: १, २, ३, ४, ५, ६; छठा घेरा सबसे बड़ा है, और उसमें सबसे ज़्यादा हैं। क्योंकि सबसे बाहर का है इसीलिए सबसे बड़ा है वो घेरा, तो उसमें सबसे ज़्यादा वो सिपाही खड़ा कर देता है। सिपाही तो होते ही बहुत सारे हैं; जनरल एक होता है। सिपाही कितने होते हैं? बहुत सारे। तो वो छठे घेरे में बहुत सारे सिपाही खड़े कर देता है।

अब तुम जाते हो आक्रमण करने, तो तुम किससे उलझ जाओगे? वही बाहर वाले व्यूह में ही उलझ जाओगे न। बाहर के व्यूहों में…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org