गलत निर्णयों का कारण क्या? ग्रंथों का दुरुपयोग कैसे?

प्रश्न: आचार्य जी, प्रणाम!

आपसे प्रश्न पूछा गया था कि — “मुक्ति के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा क्या है?” तो आपने कहा था कि — “मुक्ति के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा हम स्वयं ही हैं, क्योंकि हम ही ने बंधनों का चुनाव कर रखा है।” मगर आचार्य जी, इन बंधनों के चुनाव के पीछे कोई-न-कोई कारण तो है ही, चाहे वो सही हो या गलत हो, लेकिन कारण है तो।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org