खाने और कपड़ों के प्रति आकर्षण

प्रश्न:

कबिरा यह मन लालची, समझे नहीं गंवार।

भजन करन को आलसी, खाने को तैयार।।

~ गुरु कबीर

आचार्य जी, मेरा मन तो खाने के साथ-साथ वस्त्रों आदि की ओर भी बहुत आकर्षित रहता है। वस्त्र खरीदती भी बहुत हूँ, पर कभी तृप्त नहीं होती। कृपया मार्गदर्शन करें।

आचार्य प्रशांत: शरीर भी संसाधन है, धन भी संसाधन है, समय भी संसाधन है, वस्त्र भी संसाधन हैं। भोजन भी संसाधन है। ‘संसाधन’ माने — वो जिसका उपयोग किया जाये। किसी लक्ष्य की प्राप्ति हेतु आप जिसका उपयोग कर सको, वो ‘संसाधन’ है।

आपने इन्हीं तीन-चार चीज़ों की बात की है। भोजन — संसाधन है न, जिससे ऊर्जा मिलती है। वस्त्र खरीदती हैं, तो धन से खरीदती होंगी। तो वस्त्र क्या है? संसाधन। कपड़ा भी संसाधन है। उसको पहन करके, किसी काम के लिये तैयार हो पाते हो। समय भी संसाधन है, चाहे खाने-पीने की तैयारी करो, और चाहे कपड़ों की ख़रीददारी करो, समय तो उसमें लगता है।

तो सीमा जी (प्रश्नकर्ता), प्रश्न यह है कि — इन संसाधनों का प्रयोग, किसकी सेवा में कर रही हैं? इन संसाधनों का प्रयोग, किसकी सेवा में कर रहीं हैं? संसाधन लग रहे हैं, ये बात अधूरी है। प्रश्न ये है कि — किसके लिये लग रहे हैं? गौर करियेगा।

सब धरती कागज़ करूँ, लेखनी सब बनराये ।

सात समुद्र की मसि करूँ, गुरु गुण लिखा न जाये ।।

~ गुरु कबीर

अब देख रहे हो क्या कह रहे हैं कबीर साहब? वो कह रहे हैं कि सात समुद्र की तो स्याही बना देंगे। इतना बड़ा संसाधन, कर डाला इस्तेमाल।

“ये फ़िज़ूलख़र्ची नहीं है? संसाधनों का देखो क्या किया जा रहा है”।

“क्या किया जा रहा है? दुरुपयोग किया जा रहा है। इतनी सारी स्याही बना डाली”।

और क्या कह रहे हैं? सारे पेड़ काटकर क्या बना दूँगा?

प्रश्नकर्ता: कलम।

आचार्य जी : कलम बना दूँगा। अरे बाप रे बाप! पर्यावरण का नाश कर दिया। और क्या कह रहे हैं?

“सारी धरती का कागज़ बना दूँगा”।

तुम बताओ, कि कोई लगा है, जो सारे समुद्रों का पानी इस्तेमाल कर देना चाहता है। सारी ज़मीन के सब संसाधन उपयुक्त कर देना चाहता है। सारे पेड़ काट देना चाहता है। ये किसी को बताओ, तो वो कहेगा, ये क्या विनाश है। ये बर्बादी है। लेकिन जब कबीर साहब कह रहे हैं, तो कोई बात तो होगी। वो कह रहे हैं, “सारे संसाधन कर लो इस्तेमाल, अगर सही दिशा में कर रहे हो”।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org