क्यों नहीं मिल सकते भारत को अच्छे नेता?

आचार्य प्रशांत: प्रश्न है कि “क्यों नहीं मिल सकते भारत को अच्छे नेता?”

यहाँ ‘नेता’ लिखा है, मैं समझता हूँ कि राजनैतिक क्षेत्र की बात की जा रही है, तो राजनेताओं की ही बात की जा रही होगी; क्योंकि नेतृत्व तो वरना किसी भी क्षेत्र में हो सकता है, पर यहाँ पर शायद पॉलिटिकल (राजनैतिक) क्षेत्र की ही बात हो रही है।

देखो, जनतंत्र है भई! यहाँ पर ऐसा तो है नहीं कि कोई ताक़त के दम पर या अपनी फ़ौज के दम पर आ कर के चढ़ बैठता है और तुम्हारा मुखिया बन जाता है या प्रधान बन जाता है, यहाँ तो गद्दी उसको ही मिलती है जिसको तुम चुनते हो। तो एक बहुत प्रसिद्ध (वक्तव्य), अंग्रेज़ी में है, कि “पीपल गेट द लीडर्स दे डिज़र्व।” (लोग जैसे होते हैं, उन्हें उसी तरह का नेता मिलता है) और ये बात लोकतंत्र में तो शत-प्रतिशत लागू होती है। तो ये प्रश्न कैसा है फिर, कि “क्यों नहीं मिल सकते भारत को अच्छे नेता”?

भारतीय जैसे हैं, भारतीयों को वैसे नेता मिल जाते हैं। नेता कोई धाँधली कर के तो सत्ता पर काबिज़ होते नहीं, बाक़ायदा मतगणना होती है; जिसको ज़्यादा मिले हैं वोट उसको गद्दी मिल जाती है। तो आप ही तो दे रहे हैं, और आप भारतीय हैं; आप जिस आधार पर मत अपना दर्ज़ कराते हैं, उसी तरीके से लोग सत्ता पर पहुँच जाते हैं। वैसे ही अंग्रेज़ी का एक और (वक्तव्य) याद आ रहा है, कि, “दुनिया-भर में क्या होता है कि पीपल कास्ट देयर वोट; इन इंडिया, पीपल वोट देयर कास्ट (लोग अपना मत देते हैं; भारत में, लोग अपनी जात वालों को मत देते हैं)।“ फिर आप कहते हैं कि भारत को अच्छे नेता क्यों नहीं मिल रहे। जब तक लोग बेहतर नहीं होंगे तब तक नेता बेहतर नहीं हो सकते; और ये बात अच्छे से समझ लीजिए।

लोकतंत्र में नेता जनता की अगुवाई नहीं करता, वो जनता के पीछे चलता है। मतलब समझ रहे हो? लोकतंत्र में ऐसा नहीं होता कि तुम कहो कि “आइए नेता साहब, हमारा पथ-प्रदर्शन करिए, हमारे आगे-आगे चलिए।” लोकतंत्र में नेता चलता है जनता के पीछे-पीछे; जनता जिधर को जा रही होगी, नेता उधर को ही चल देगा। और अगर नेता किसी और दिशा में चलना चाहेगा, तो फिर वो जनता से अलग हो जाएगा, उसको गद्दी नहीं मिलेगी। आप सवाल पूछ रहे हैं, (अर्थात) आपकी कुछ ऐसी धारणा है कि “हमारा नेता है, वो हमें राह दिखाए, हमारे आगे-आगे चले, हमें रास्ता बताए।“ जनतंत्र में ऐसा नहीं होता, जनतंत्र में लोग आगे-आगे चलते हैं; लोगों में भी कौन लोग आगे-आगे चलते हैं? जो सबसे मूढ़ होते हैं वो सबसे आगे चलते हैं, क्योंकि संख्या सबसे ज़्यादा उन्हीं की होती है, बहुमत उन्हीं का होता है।

तो पहली बात तो लोग चुनते हैं नेता को, और दूसरी बात, लोगों में भी वो वर्ग जो सबसे ज़्यादा मूढ़ है, वो चुनता है नेता को, क्योंकि वही सबसे ज़्यादा…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org