क्यों जीना पड़ता है स्त्रियों को मजबूरी में?

सब भावनात्मक निर्भरता पदार्थगत होती है। दैट व्हिच यू कॉल्ड इमोशन, इज़ मोस्टली इकोनॉमिक्स।

कुत्ता होता है न? कल माता जी मुझसे कह रही थीं कि “कुत्ता अगर पालना तो रोटी उसे तुम ही देना। भले ही उसे बहुत लोग खिलाएँ या कुछ भी करें, पर रोटी अपने ही हाथ से देना। कुत्ता तुमसे भावनात्मक रूप से जुड़ जाएगा।” क्यों — इमोशन इज़ मोस्टली इकोनॉमिक्स।

तो भावनात्मक निर्भरता, आर्थिक निर्भरता है। मत कहो कि ये भावनात्मक निर्भरता है। ये निर्भरता आर्थिक है।

क्या वास्तव में तुम्हें आर्थिक तौर पर निर्भर होने की आवश्यकता है?

कुछ लालच होगा। लालच के अलावा गुलामी की और कोई वजह नहीं होती। और लालच तो हमेशा आर्थिक ही होता है। तो मत कहो कि भावनाओं के कारण बँधी हुई हो। बात पैसे की है।

हो सकता है कि चैतन्य रूप से तुम ऐसे न सोचती हो। हो सकता है कि मैं जो बात कह रहा हूँ, वो सुनने में भद्दी भी लग रही हो। पर अपने मन की गहराई में उतरो। उसमें कहीं न कहीं तुमको आर्थिक आकर्षण दिखाई देगा। क्यों है ऐसा कि इस प्रकार के बंधन स्त्रियों को ही ज्यादा अनुभव होते हैं? कल विस्तार से बात करी थी हमने — ग्यारह बजे नहीं कि सभा से कुछ लोग उठ कर के चले गए। और जितने लोग उठ कर के चले गए उसमें शत-प्रतिशत स्त्रियाँ थीं। क्या कहोगे? वो भावनात्मक थीं इसलिए उठ कर चली गईं? न, और हर उम्र की थीं।

जैसे अभी तुम यहाँ कह रही हो कि ये बढ़ी उम्र की हैं, ये देख कर तुम्हें ताज्जुब हो रहा है। कल पंद्रह वर्ष से लेकर के पैंसठ वर्ष तक की स्त्रियाँ थीं, सब…(उठ कर चली गईं)

अब उस बात को ज़रा इस तथ्य के सामने रख कर देखो कि विवाह के बाद भारत में जैसी परिपाटी है उसमें स्त्री को अचानक आर्थिक लाभ बहुत हो जाता है। और वो आर्थिक लाभ हो उसके लिए आवश्यक है कि वो पारिवारिक और सामाजिक व्यवस्था के अनुशासन के दायरे में रहे।

अगर विद्रोह करती है कोई लड़की परिवार के विरुद्ध, समाज के विरुद्ध, बंधनों के विरुद्ध, तो सबसे पहले वो क्या खोती है? बहुत अच्छा सा घर होगा, उससे वंचित होना पड़ेगा। और घर से अभी मैं रिश्ते, सम्बन्ध इत्यादि की बात नहीं कर रहा। मैं सीधे-सीधे बिस्तर, एयर-कंडीशनर, फ्रिज, हॉल, गाड़ी, ड्राइवर, लॉन इनकी बात कर रहा हूँ।

पहले वो मिल जाता है पिता के अनुशासन के अधीन रह कर। और अगर पिता के अनुशासन के अधीन हो तो पिता विवाह ही ऐसी जगह कर देंगे जहाँ वही सब मटीरियल सुख-सुविधाएँ मिलने लगेंगी पति के अनुशासन के अधीन रह कर।

एक चमकती हुई कोठी से विदाई होकर दूसरी चमकती हुई कोठी में प्रवेश हो जाता है। और अगर विद्रोह किया इस व्यवस्था…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org