क्या श्रीकृष्ण अर्जुन से हिंसा करवाते हैं?

हिंसा होती है अपूर्णता के भाव से कर्म करने में जहाँ तुम्हारे भीतर द्वैत उठा, जहाँ तुम्हें लगा — मैं अपूर्ण और सामने जो भी है वह भी अपूर्ण — और जहाँ तुम्हें लगा कि यह दोनों अपूर्ण मिलकर पूर्ण हो जाएँगे, तहाँ हिंसा हो गई। जहाँ तुमने अपनापन और परायापन देखा, वहीं हिंसा हो गई। जहाँ तुम्हें दो दिखे, वहीं हिंसा हो गई। अब दूसरे का, जैसा मैंने कहा, तुम गला काटो तो भी हिंसा क्योंकि गला काटा तो भी दूसरा, दूसरा था, और दूसरा दिख रहा है न तो तुम दूसरे से गले लगे तो भी हिंसा क्योंकि गले किससे लगे? दूसरे से। यह भी हिंसा।

कृष्ण कह रहे हैं — अधूरे तुम हो ही नहीं। तुम कृष्ण हो और कृष्ण क्या हैं? पूरे। “अर्जुन, तू अर्जुन है ही नहीं, तू आत्मा मात्र है, तू विशुद्ध सत्य है, अब लड़ और अब भूल जा कि तुझे विजय मिलेगी कि नहीं”। संपूर्ण गीता में मुझे दिखा दो कि कृष्ण कहाँ कह रहे हैं कि आवश्यक है विजयी होना; एक श्लोक दिखाओ। ज़ोर इस बात पर है ही नहीं कि अर्जुन तू राजा बन, जोर इस बात पर है ही नहीं की तू जीतेगा कि हारेगा, बहुत संभावना थी कि अर्जुन लड़ते-लड़ते हार भी जाता, दिवंगत हो जाता — कौरवों की सेना से एक चौथाई से ज़्यादा छोटी थी पांडवों की सेना। ऐसा समझ लो कि उधर अगर चार थे तो इधर तीन थे, बारह और सात! बहुत संभावना थी कि अर्जुन हार जाता, मारा जाता, लेकिन गीता यथावत रहती क्योंकि कृष्ण ने जो कहा उसका उद्देश्य जीत नहीं थी, उसका उद्देश्य था युद्ध, धर्मयुद्ध। धर्म के लिए जो भी उचित है तू कर। तुझे व्यक्तिगत रूप से ताज मिलेगा या नहीं, तू राजा बनेगा कि नहीं, मुकुट धारण करेगा या नहीं, यह बात ही नहीं है। बात बहुत सीधी है, यह साम्राज्य दुर्योधन के पास नहीं जाना चाहिए क्योंकि दुर्योधन का जैसा मन है और दुर्योधन की जैसी नीतियाँ हैं, अगर वह राजा बनता है तो पूरे हस्तिनापुर में दुर्दशा छा जाएगी।

सवाल इसका नहीं है कि अर्जुन को ताज मिला कि नहीं, सवाल इसका है कि मानवता के साथ क्या हो रहा है। और याद रखना हस्तिनापुर की सल्तनत उस समय भारत की सबसे मजबूत प्रभावी सल्तनत थी। हस्तिनापुर का जो शासक बनता, वह पूरे भारत पर छा जाता और भारत उस समय विश्व का केंद्र था। जो हस्तिनापुर का शासक होता वह मानवता को, मानवता के पूरे इतिहास को बदल देता। अगर दुर्योधन चढ़ गया होता सिंहासन पर तो धर्म का बहुत नाश होता, इसलिए आवश्यक है कि अर्जुन, तू लड़। फर्क नहीं पड़ता कि तू जिएगा कि मरेगा, फर्क नहीं पड़ता कि तुझे विजय मिलेगी या नहीं, पर तू लड़। अपने लिए नहीं, अखिल विश्व के लिए लड़। जब कृष्ण कहते हैं, पूर्ण के लिए लड़, तो पूर्ण माने अखिल ब्रह्मांड, सबके लिए लड़ — यह तेरी व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, यह तू द्रौपदी के लिए नहीं लड़ रहा, यह तू भीम के लिए नहीं लड़ रहा, यह तू अपनी स्मृतियों के लिए नहीं लड़ रहा, यह…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org