क्या विवाह सत्य के मार्ग में बाधा है?

क्या विवाह सत्य के मार्ग में बाधा है?

आचार्य प्रशांत: शादी की बात करी तुमने, शादी न अच्छी है न बुरी है। बिलकुल साफ़-साफ़ देखो शादी का मतलब क्या होता है। हटाओ शब्दों को, रस्मों को, रिवाजों को, मान्यताओं को। जीवन का अर्थ, मैंने कहा, वो है जो चौबीस घंटे तुम अनुभव कर रहे हो। तो शादी का क्या अर्थ हुआ? शादी का अर्थ हुआ कि अब तुम चौबीस घंटे अपने जीवन में एक अन्य व्यक्ति की मौजूदगी अनुभव करोगे।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org